Home Loan Personal Loan Details In Hindi

होम लोन पर्सनल लोन से सस्ता क्यों होता है? | Why Home Loan Cheaper Than Personal Loan? 

होम लोन पर्सनल लोन से सस्ता क्यों होता है? Home loan Sasta Kyon Hota Hai? Why Home Loan Cheap? Why Home Loan Cheaper Than Personal Loan In Hindi? पूरी जानकारी इस पोस्ट में पाएं।

Home loan Sasta Kyon Hota Hai

यदि आपने कभी होम लोन या पर्सनल लोन लिया है या उसके संबंध में जानकारी जुटाई है, तो आप जरूर जानते होंगे कि ब्याज दर के मामले में होम लोन पर्सनल लोन से सस्ता होता है। जहां पर्सनल लोन की ब्याज दर 10% वार्षिक से लेकर 30% वार्षिक तक चली जाती है, वहीं होम लोन की ब्याज दर 6% वार्षिक से 9% वार्षिक तक होती है। क्या आपने कभी इसके कारणों पर विचार किया है। क्या आपने कभी सोचा है कि होम लोन सस्ते क्यों होते हैं? और पर्सनल लोन महंगे क्यों होते हैं?

इस पोस्ट में हम आपको उन कारणों की जानकारी दे रहे हैं कि होम लोन पर्सनल लोन से सस्ता क्यों होता है? (Home loan sasta kyon hota hai?)

Home loan Sasta Kyon Hota Hai

पर्सनल लोन महंगा क्यों होता है? 

पर्सनल लोन महंगा इसलिए होता है, क्योंकि इसमें बैंकों को अधिक जोखिम होता है। यह एक असुरक्षित ऋण (unsecured loan) होता है, जिसमें कोई वस्तु, संपत्ति या सिक्योरिटी राशि गिरवी नहीं रखी जाती। इस कारण इसकी रिकवरी को लेकर बैंकों को अधिक जोखिम होता है। इसलिए, बैंक पर्सनल लोन की ब्याज दरें उच्च रखती हैं ताकि वे अपने जोखिम को कवर कर सकें।

होम लोन सस्ता क्यों होता है? 

होम लोन सस्ते होने के निम्न कारण होते हैं:

1. होम लोन सस्ता होता है, क्योंकि यह एक सुरक्षित ऋण (secured loan) होता है। इस लोन में क्रय की जाने वाली संपत्ति का स्वामित्व तब तक बैंक के पास रहता है, जब तक लोन प्राप्तकर्ता पूरे लोन का भुगतान नहीं कर देता। इस प्रकार होम लोन में बैंक पर जोखिम कम होता है। यदि लोन प्राप्तकर्ता लोन का भुगतान नहीं कर पाता, तो बैंक के पास गिरवी संपत्ति के द्वारा ऋण की राशि की वसूली की जा सकती है। अतः बैंक द्वारा होम लोन कम ब्याज दर पर दिया जाता है।

2. होम लोन की ब्याज दरें कम होती हैं, क्योंकि यह अधिक राशि का और लंबी अवधि का होता है। इसमें आमतौर पर घर खरीदने के लिए 30 लाख से 1 करोड़ रुपये तक का ऋण लिया जा सकता है और भुगतान अवधि आमतौर पर 20 से 30 वर्ष होती है। बैंकों को इस दीर्घकालिक अवधि में कम ब्याज दर पर भी अच्छी आय मिलती रहती है और उसकी अच्छी कमाई होती है। इसलिए वे होम लोन की ब्याज दरें कम रखते हैं।

3. होम लोन सस्ता होने की एक बड़ी वजह यह भी है कि सरकार स्वयं होम लोन को प्रोत्साहित करती है। नेशनल हाउसिंग बैंक की तरफ से सरकार होम लोन के लिए बैंक और एनबीएफसी को पैसे उपलब्ध करवाती है। ये पैसे सरकार बैंक द्वारा होम लोन पर प्रदान की जा रही ब्याज दर से और 2% सस्ती दर पर देती है। इस कारण बैंक सस्ती दर पर होम लोन दे पाती है।

सरकार होम लोन को क्यों देती है बढ़ावा?

होम लोन को सरकार बढ़ावा देती है, क्योंकि इससे एक पूरे आर्थिक इको सिस्टम को बढ़ावा मिलता है। आप गृह ऋण नया घर खरीदने या घर बनवाने के लिए लिए हैं। घर बनवाने की कानूनी प्रक्रिया में आप सरकार को विभिन्न शुल्क जैसे कि रजिस्ट्री शुल्क, स्टैंप शुल्क आदि देते हैं, जिससे सरकार को लाभ होता है।

घर बनाने से लेकर उसे सजाने तक की प्रक्रिया में कई तरह की सामग्रियों की ज़रूरत होती है, जैसे ईंट, रेत, बजरी, सरिया आदि। इससे इन वस्तुओं की मांग बढ़ती है, इनकी बिक्री होती है। इससे भी सरकार को जीएसटी मिलता है। गृह निर्माण में कई लोगों को रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं, सरकार को लेबर टैक्स प्राप्त होता है। घर बनने के बाद उसे सजाने के लिए लकड़ी, लोहा, पेंट, और फर्नीचर की आवश्यकता पड़ती हैं, जिससे विभिन्न उद्योगों को भी लाभ होता है और टैक्स के रूप में सरकार को लाभ होता है।

इस प्रकार, गृह निर्माण की प्रक्रिया में देश के आर्थिक विकास के लिए सरकार को ऋण के रूप में पूंजी प्राप्त होती है। इसलिए, सरकार होम लोन को बढ़ावा देने के लिए कर में छूट प्रदान करती है, ताकि लोग अधिक से अधिक घर खरीदें या निर्माण करवा सकें और देश के आर्थिक स्थिति में सुधार के लिए सरकार पूंजी अर्जित कर सके।

आशा है आपको  Why Home Loan Cheaper Than Personal Loan In Hindi जानकारी उपयोगी लगी होगी। जानकारी scocial media platform पर शेयर करें। ऐसी ही Loan, Banking Finance की जानकारी के लिए हमें subscribe करना न भूलें।

Home Loan क्या होता है?

Home Loan नहीं चुकाने पर क्या होता है?

Home Loan Emi Default होने पर क्या करें?

Leave a Comment